इंटरनेशनल

एएमयू से पीएचडी कर रहा कश्मीरी छात्र बना आतंकी

नई दिल्ली, एजेंसी। देश में आतंकियों के फैलते जाल का एक और मामला सामने आया है। नए साल में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) से पीएचडी कर रहा एक कश्मीरी छात्र गायब हो गया था। अब अचानक से उसके आतंकी बनने की खबर सामने आई है। फेसबुक और व्हॉट्सएप पर जारी मैसेज के अनुसार, कश्मीरी शोधार्थी 5 जनवरी को हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया। सोशल नेटवर्किंग पर जारी फोटो में उसे अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर के साथ देखा जा सकता है।
कश्मीरी युवक का भाई जूनियर इंजीनियर है। जानकारी के मुताबिक, एएमयू में पीएचडी कर रहे युवक की पहचान कुपवाड़ा निवासी मन्नान वानी पुत्र बशीर अहमद वानी के तौर पर हुई है। परिजनों ने बताया कि मन्नान एएमयू में अप्लाइड जियोलॉजी विभाग से पीएचडी कर रहा था। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से बात करते हुए मन्नान के भाई मुबाशिर अहमद ने बताया, ‘हमलोगों ने भी सोशल नेटवर्किंग साइटोें पर मन्नान\ तस्वीर देखी है। लेकिन, हमें अभी इस बारे में कुछ भी मालूम नहीं है कि वह आतंकी संगठन में शामिल हुआ है या नहीं। हम 4 जनवरी से ही उससे संपर्क नहीं कर पा रहे हैं। उसका मोबाइल फोन लगातार स्विच आॅफ है। हमें लगता है कि उसने कुछ वजहों से फोन बंद कर दिया होगा या फिर फोन खो गया होगा। उससे संपर्क नहीं होने के कारण हमलोगों ने शनिवार (6 जनवरी) को पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।’ मुबाशिर ने बताया कि मन्नान एक महीने पहले ही अलीगढ़ गया था। उनके अनुसार, मन्नान से लगातार बातचीत होती थी, ऐसे में परिवार को लगा था कि वह अलीगढ़ में ही है। अब उसके बारे में कोई जानकारी नहीं है।

मथुरा से कपड़े गए शख्स का नहीं आतंकी साजिश से कोई संबंध

26 जनवरी को लेकर सुरक्षा एजेंसिया सतर्क
नई दिल्ली। दिल्ली में आतंकी साजिश वाली खबर में नया मोड़ आ गया है। पहले दावा किया गया था कि साजिश में शामिल मथुरा में एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है। लेकिन उससे पूछताछ में किसी आतंकी एंगल का पता नहीं चला है। इस शख्स को ड्रग्स लेने की वजह से अजीबोगरीब हरकतें करने और बिना टिकट का यात्रा करने पर गिरफ्तार किया गया है। हालांकि पुलिस और तमाम सुरक्षा एजेंसिया 26 जनवरी की परेड के लिए अलर्ट पर है। इससे पहले दावा किया गया था कि पकड़े गए शख्स बिलाल वानी ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि दिल्ली का अक्षरधाम मंदिर और गणतंत्र दिवस की परेड आतंकियों के निशाने पर थी। इसी आधार पर स्पेशल सेल और आईबी की टीम ने दो संदिग्धों की तलाश के लिए दिल्ली के जामा मस्जिद इलाके में जम-जम गेस्ट हाउस और होटल अल राशिद पर रेड की। संदिग्धों की तलाश में रेड डालने गई स्पेशल टीम को पता चला कि तीन जनवरी को दो संदिग्ध होटल अल राशिद में रुकने आए थे। दोनों संदिग्धों के नाम मुदासिर अहमद और मोहम्मद अशरफ हैं।

एएमयू में सम्मानित किया जा चुका है मन्नान
एएमयू की ओर से इस मामले में अभी तक कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है। लेकिन, विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर मन्नन वानी को पीएचडी छात्र बताया गया है। वेबसाइट के मुताबिक, मन्नान ‘स्ट्रक्चरल एंड जियो-मॉर्फोलॉजिकल स्टडी आॅफ लोलाब वैली, कश्मीर’ विषय पर शोध कर रहा था। मन्नान को वर्ष 2016 में ‘वॉटर, एनवायरमेंट, इकोलोजी एंड सोसाइटी’ पर एक अतंरराष्ट्रीय कांफ्रेंस में बेहतरीन रिपोर्ट देने के लिए सम्मानित भी किया गया था। एएमयू वेबसाइट के अनुसार, कश्मीर यूनिवर्सिटी से जियोलॉजी एंड अर्थ साइंसेज में बेचलर की डिग्री लेने के बाद उसने एएमयू से मास्टर और एमफिल की पढ़ाई की थी।कार कर दिया।

About the author

admin

Add Comment

Click here to post a comment




Trending