क्राइम राजनीती

रात दुकानों और गाड़ियों में तोड़फोड और फायरिंग उन विहिप नेताओं ने की जो दशहरे पर हर्ष फायरिंग मामले में फरार चल रहे

फूलट्टी बाजार में मंगलवार रात दुकानों और गाड़ियों में तोड़फोड और फायरिंग उन विहिप नेताओं ने की जो दशहरे पर हर्ष फायरिंग मामले में फरार चल रहे हैं। घटना के वायरल वीडियो में चार आरोपी तोड़फाड़ करते साफ नजर आ रहे हैं लेकिन सत्ता के दबाब में पहले झुकी हुई पुलिस इन्हें नामजाद करने की हिम्मत नहीं दिखा पाई। यह हाल तब है जबकि एक दरोगा की गाड़ी में भी तोड़फोड़ की गई। उसकी ओर से बलवे की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है लेकिन किसी का नाम नहीं खोला गया है।
यह बवाल विहिप नेता मनोज कुमार की गाड़ी के ड्राइवर के साथ विवाद हुये जाने के बाद हुआ था। जिस पर ड्राइवर ने पिटाई का आरोप सुधीर बैंड के सुधीर शर्मा और कर्मचारियों पर है। मनोज कुमार ने फोन करके विहिप नेताओं को बुलाया था। इसके कुछ समय बाद वहाँ पर तोड़फोड़ और फायरिंग हुई। इससे पूरा आस-पास का इलाका दहल गया। जिसके बाद दुकानदार अपनी जान बचा कर दुकान बंद करके भाग गए। वहाँ इमरजेंसी चौकी इंचार्ज राजेश चौहान की भी गाड़ी खड़ी थी। इसमें पुलिस के सामने ही तोड़फोड़ की गई। राजेश चौहान ने 20-25 अज्ञात लोगों के खिलाफ कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई है। उधर इस घटना का एक विडियो वायरल हुआ। इसमें वे विहिप नेता तोड़फोड़ करते नजर आ रहे है जो दशहरा पर किला के सामने फायरिंग करने के मुकदमें में नामजाद हैं। एसपी सिटी कुंवर अनुपम सिंह का कहना है कि वीडियो के आधार पर आरोपियों की जाँच की जायेगी। मामले में कड़ी कार्यवाही होगी।

एसपी सिटी की जाँच की बात पर भड़के हिन्दूवादी नेता

फूलट्टी में हुए बवाल के बाद मौके पर पहुँचे एसपी सिटी के बयान के बाद हिन्दूवादी नेता भड़क गए। दरअसल एसपी सिटी ने मामले की जाँच करने के बाद कार्यवाही की बात कही। इस बात पर बिफरे हिन्दूवादी नेताओं का कहना है कि दशहरा पर जब हमने हर्ष फायरिंग की तब पुलिस ने बिना किसी जाँच के हमारे खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया और अब खुलेआम हमारे साथ मारपीट की गई है तो इस पर जाँच के बाद कार्यवाही होगी।
दबाब में पुलिस, एकतरफा लिखा मुकउमा
झगड़ा दो पक्षों के बीच हुआ लेकिन पुलिस ने कार्यवाही एकपक्षीय की है। विहिप के प्रांतीय संगठन मंत्री मनोज कुमार की ओर से एफआईआर दर्ज कर ली गई, लेकिन सुधीर शर्मा की तहरीर पर रिपोर्ट नहीं लिखी। मनोज की ओर दर्ज केस में लूट, जानलेवा हमला, बलवा की धाराएं हैं आरोप है कि 250 रूपये और चेन लूटी गई। आरोपियों में सुधीर शर्मा, रिक्की, कर्मचारी सन्नी, गौरव, निशू, विठ्ठन और सात-आठ अज्ञात हैं। दूसरी ओर सुधीर शर्मा का कहना है कि उनकी तहरी पुलिस ने ली ही नहीं। इस पर उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को शिकायत भेजी है। आरोप है कि उनकी और आस-पास की दुकानों में विहिप नेताओं और कार्यकताओं ने तोड़फोड़ की।
पुलिस के सामने बवाल, फिर भी रिपोर्ट नहीं
वायरल वीडियो में तोड़फोड़ के दौरान दरोगा और सिपाही भी मौके पर नजर आ रहे हैं। इसके बावजूद पुलिस ने न तो विहिप नेताओं पर केस दर्ज किया है और न ही अपनी ओर से। दरोगा राजेश चौहान की ओर से रिपोर्ट लिखी है, लेकिन यह बवाल की नहीं, उनकी खुद की गाड़ी में तोड़फोड़ की है। थाना कोतवाली पुलिस इतनी भयभीत है कि दरोगा की ओर दर्ज रिपोर्ट की जानकारी तक नहीं दे रही। एसपी सिटी का कहना है कि कार्यवाही निष्पक्षता के साथ की जा रही है।
ऐसे तो कोई पुलिस के पास जाएगा ही नहीं
अपराध होने पर लोग पुलिस के पास जाते हैं झगड़ा होने पर मुकदमा लिखाते हैं। अधिकारियों के नंबर जगह-जगह बोर्ड पर लिखे हैं। मंगलवार को फुलट्टी बाजार में कार के कारण विवाद हुआ। मारपी के बाद पुलिस को नहीं बलाया गया। आखिर क्यों। क्या सत्ताधारियों को पुलिस पर भरोसा नहीं। यह सवाल उठ रहा है। फुलट्टी पर व्यापारियों का कहना है कि भगवाधारियों को पुलिस से कार्यवाही करानी चाहिए थी। वे इसी तरह कानून अपने हाथ में लेंगे तो कैसे काम चलेगा। उनमें और दूसरे दलों में क्या अंतर रह जाएगा।

About the author

amit tomer

Add Comment

Click here to post a comment




Trending