क्राइम राजनीती

कोर्ट कुछ भी कहे, तीन तलाक़ जारी रहेगा: मदनी

इंडियन एक्सप्रेस ने जमात उलेमा ए हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी के हवाले से ख़बर प्रकाशित कि है कि कोर्ट के फ़ैसले के बावजूद ‘एक साथ तीन तलाक़’ या तलाक़-ए-बिद्दत को वैध मानना जारी रहेगा. मदनी ने कहा कि अगर आप सज़ा देना चाहें तो दें, लेकिन इस तरह से तलाक़ मान्य होगा.

अख़बार ने मदनी के हवाले से कहा है, “हम इस फैसले से सहमत नहीं हैं. हम समझते हैं कि अपना धर्म मानने के मौलिक अधिकार पर भी ये हमला है. निकाह, हलाला और बहुपत्नी प्रथा का बार-बार ज़िक्र इस बात का संकेत है कि अभी और भी हस्तक्षेप के लिए और भी मुद्दे निशाने पर होंगे.”

द हिंदू की एक ख़बर के अनुसार, एक साथ तीन तलाक़ को असंवैधानिक क़रार दिए जाने के बाद केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को सलाह जारी कर कहा है कि वे फ़ैसले के मद्देनज़र किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए क़रीबी से निगरानी रखें.

ट्रिपल तलाक पर फैसले के बाद दिया तलाक, पति ने कहा मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता

मेरठ : ट्रिपल तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के एक दिन बाद ही उत्‍तर प्रदेश के मेरठ में तीन तलाक का मामला सामने आया है. जिस महिला को उसके पति ने तलाक दिया है, वह तीन बच्‍चों की मां है. महिला के मुताबिक उसका पति उसे दहेज के लिए परेशान करता था. बुधवार को महिला के पति ने उसे घर से निकाल दिया. जिसके बाद उसने अपने पति को सुप्रीम कोर्ट के फैसला का हवाला दिया. लेकिन पति ने उसे सबसे सामने ही तलाक-तलाक-तलाक बोल दिया.

मामला मेरठ जिले के सरधना थाना क्षेत्र में बुधवार का है. पीडि़ता ने पति के खिलाफ सरधना थाने में शिकायत दर्ज कराकर कार्रवाई की मांग की है. महिला का आरोप है कि पति ने उसका जीवन नर्क कर दिया. मेरठ की अरशी निदा का निकाह करीब 6 साल पहले मोहल्ले के ही सिराज खान के साथ हुआ था. अरशी के पिता का कहना है, ‘सिराज के 3 तलाक कहने पर उसे सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बारे में बताया गया. लेकिन उसने कहा कि वो किसी कोर्ट के फैसले को नहीं मानता.

सिराज ने यह भी कहा कि उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता, पुलिस भी उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी. सिराज को बार-बार समझाने की कोशिश की, कहा कि इससे बेटी की जिंदगी बर्बाद हो जाएगी, लेकिन उसने एक सुनी. अरशी ने बताया कि निकाह के बाद से ही ससुराल वालों ने दहेज के लिए प्रताड़ित करना शुरू कर दिया.

ससुर कहता था कि उसके बेटे के लिए चार पहिये वाली गाड़ी के रिश्ते रहे थे. अगर मैंने डिमांड पूरी नहीं की तो वह अपने बेटे का निकाह कहीं और करा देंगे. शादी के बाद मुझे तीन बच्चे हुए. दो बेटा और एक बेटी. बेटी सबसे छोटी है. उसके पैदा होने पर ससुराल वाले मेरे मायके वालों से नेग में सेंट्रो कार और एक लाख रुपए नकद की डिमांड करने लगे.

डिमांड पूरी होने पर मुझे मारपीट कर घर से निकाल दिया गया. बुधवार को परिजन मुझे लेकर ससुराल वालों से बात करने गए, तो उन लोगों ने हंगामा खड़ा कर दिया. मोहल्ले के लोग इकट्ठा हो गए, इस बीच वहां मौजूद सिराज ने मुझसे तलाक-तलाक-तलाक कहकर तलाक दे दिया.’

मामले में अरशी ने सरधना थाने में पति और अन्य लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. इसमें पति सिराज, ससुर रियाज, सास मोइना, ननद जीनत, दरक्शा और देवर रिजवान का नाम शामिल है. थाना प्रभारी सरधना धर्मेंद्र कुमार का कहना है कि पीड़िता की शिकायत के आधार पर जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी.

Add Comment

Click here to post a comment




Trending