क्राइम राजनीती

8 महीनों बाद तमिलनाडु सीएम ने इन्क्वायरी कमीशन बनाने का फैसला

चेन्नई.तमिलनाडु के सीएम के पलानीस्वामी ने गुरुवार को जयललिता के निधन की जांच कराने का ऐलान किया। जयललिता की डेथ पिछले साल 5 दिसंबर को हुई थी, इसके 8 महीनों बाद तमिलनाडु सीएम ने इन्क्वायरी कमीशन बनाने का फैसला किया। उन्होंने ये भी कहा कि जयललिता के घर पोएस गार्डन को मेमोरियल में तब्दील किया जाएगा। एआईएडीएमके की पूर्व सुप्रीमो जयललिता (68) का 75 दिन तक अस्पताल में भर्ती रहने के बाद निधन हो गया था।
AIADMK के दो हिस्सों के जुड़ने का रास्ता साफ…
– माना जा रहा है कि पलानी स्वामी के इस एलान के साथ ही बागी AIADMK लीडर ओ पन्नीरसेल्वम के धड़े के साथ मर्जर का रास्ता साफ हो गया है, क्योंकि जयललिता की मौत की जांच और पोएस गार्डन को मेमोरियल में तब्दील करना ही उनकी दो अहम मांगें थीं।
– इसके अलावा पार्टी की इंटरिम चीफ वीके शशिकला और डिप्टी जनरल सेक्रेटरी टीटीवी दिनाकरण को ऑफिशियली पार्टी से निकालने जाने की मांग भी पन्नीरसेल्वम ने की थी।
हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज रहेंगे कमीशन के हेड
– पलानीस्वामी ने कहा, ” इन्क्वायरी कमीशन का हेड मद्रास हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज को बनाया जाएगा। जज के नाम का एलान बाद में किया जाएगा। पोएस गार्डन को जयललिता के मेमोरियल में तब्दील किया जाएगा और पब्लिक के लिए इसे खोला जाएगा।”
पूर्व राज्यसभा MP ने की थी CBI जांच की मांग
– एआईएडीएमके से निकाली गईं राज्यसभा सांसद शशिकला पुष्पा ने सुप्रीम कोर्ट में पिटीशन दायर कर जयललिता के निधन की सीबीआई जांच करने की मांग की थी। लेकिन, SC ने पिटीशन खारिज कर दी थी।
– पिटीशन में दावा किया गया था, “जयललिता की मौत संदिग्ध हालात में हुई, अंतिम संस्कार के फोटोज को देखने से पता चलता है कि उनके शरीर पर निशान थे।”
– पिटीशन के मुताबिक, “हॉस्पिटल में जयललिता के पास किसी को जाने की इजाजत नहीं थी। हॉस्पिटल में भर्ती होने से लेकर उनकी मौत होने तक हर बात को छिपाया गया, उनकी असली मेडिकल कंडीशन का खुलासा नहीं किया गया।”
पहले भी दायर हो चुकी है पिटीशन
– जयललिता की मौत को लेकर दिसंबर 2017 में सुप्रीम कोर्ट में एक और पिटीशन दायर हुई थी।
– तमिलनाडु तेलुगू युवा शक्ति की ओर से दायर पिटीशन में दावा किया गया था कि जिन हालात में सीएम जयललिता की मौत हुई, उससे शक पैदा होता है।
– पिटीशन में मांग की गई थी कि एक्सपर्ट्स द्वारा जयललिता की मेडिकल रिपोर्ट्स की जांच कराए जाने की जरूरत है।
एक्ट्रेस गौतमी ने भी मौत पर उठाए थे कई सवाल
– साउथ इंडियन फिल्मों की मशहूर एक्ट्रेस गौतमी ने नरेंद्र मोदी से मांग की थी कि जयललिता की बीमारी और निधन के मामले की जांच की जाए।
– एक्ट्रेस ने 9 दिसंबर को अपने ब्लॉग पर लिखे एक पोस्ट में जया के निधन पर कई सवाल उठाए थे।
– गौतमी ने कहा था, “जया 75 दिनों तक हॉस्पिटल में रहीं, लेकिन उनकी बीमारी और इलाज के बारे में जनता को कोई जानकारी क्यों नहीं दी गई?”
– गौतमी ने लिखा, “जया की सेहत के मामले को इतना छुपाकर क्यों रखा गया? उनसे लोगों को मिलने क्यों नहीं दिया गया? कई बड़े लोग उनसे पर्सनली मिलना चाहते थे, लेकिन ये भी नहीं हो पाया।”

Add Comment

Click here to post a comment




Trending