क्राइम राजनीती

नमाज के बाद, पुलिस पर पथराव और फायरिंग, तीन अधिकारी घायल: Aligarh

अलीगढ़ में रेलवे रोड पर 7 अगस्त को हुए दोहरे हत्याकांड में पीड़ित परिवार को मुआवजा और नौकरी की मांग रहे प्रदर्शनकारियों ने शुक्रवार को जमकर हंगामा किया. इस दौरान उपद्रवियों ने पुलिस टीम पर पथराव और फायरिंग की, जिसमें दो थाना प्रभारी और एक चौकी प्रभारी गंभीर रूप से घायल हो गए.

7 अगस्त को सराय बैरागी रेलवे रोड निवासी दो भाई वसीम और आशू की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. पुलिस ने केस सुलझाते हुए महज 6 घंटे बाद डबल मर्डर केस के आरोपी कचौड़ी विक्रेता सुरेश को गिरफ्तार कर लिया था. कथित तौर पर एक राजनैतिक पार्टी पर आरोपी को बचाने का आरोप लग रहा है, जिसका मुस्लिम समाज विरोध कर रहा है.

शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद ऊपरकोट जामा मस्जिद पर मुस्लिम समुदाय की ओर से मृतक वसीम व आशू के परिवार को 50-50 लाख मुआवजा, दो नौकरी, मकान आदि की माँ को लेकर प्रदर्शन किया। इसके बाद नारेबाजी शुरू हो गई. एसपी सिटी, एडीएम सिटी प्रदर्शनकारियों को समझाने में जुट गए. इस दौरान दो गुट आपस में भिड़ गए, पुलिस ने रोका तो उपद्रवियों ने पुलिस पर पथराव और फायरिंग कर दी.

इसमें एसओ अमित यादव, अनुज कुमार और चौकी इंचार्ज राजकुमार सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए. पुलिस ने लाठीचार्ज कर आंसू गैस छोड़ी और हवाई फायरिंग भी की. जामा मस्जिद के पास बारहसैनी धर्मशाला मंदिर पर भी पथराव किया गया. उपद्रवियों ने वहां संचालित ‘ग्रामीण बैंक ऑफ आर्यावर्त’ को भी लूटने की कोशिश की, मगर शाखा प्रबंधक की सूझबूझ से ऐसा होने से बच गया.

 भीड़ को समझाने की कोशिश चल रही थी। खुद शहर मुफ्ती खालीद हमीद भी भीड़ को समझा रहे थे। भरोसा दिलाया गया कि 25-25 लाख रूपये दिलाने का प्रस्ताव शासन को भेज दिया गया है। बाकी और डिमांड भेज दी जाएगी। भीड़ शांत होकर जाने लगी। तभी कोतवाली के सामने चंदन शहीद रोड पर मस्जिद के सामने मौजूद भीड़ में शामिल उत्पातियों ने एक युवक को पीटना शुरू कर दिया।

पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि फिलहाल हालात काबू में हैं. जिन अराजक तत्वों ने हालात बिगाड़ने की कोशिश की, उन्हें चिह्नित किया जा रहा है.

Add Comment

Click here to post a comment




Trending