राजनीती

सीएम योगी ने 90 दल‍ितों के साथ खाना खाया, 11 अफसरों को काम में लापरवाही के चलते सस्पेंड भी कर द‍िया

गोरखपुर/महाराजगंज.सीएम योगी आद‍ित्यनाथ के पूर्वांचल दौरे का गुरुवार को दूसरा द‍िन है। गोरखनाथ मंदिर में पूजा-पाठ करने के बाद योगी ने हिंदू सेवा आश्रम में करीब 200 फरियादियों से मुलाकात की। यहां उनसे 9वीं बार म‍िलने के ल‍िए महाराजगंज की नौतनवां सीट से इंड‍िपेंडेंट MLA और पत्नी सारा की हत्या के आरोपी अमनमण‍ि त्र‍िपाठी अपनी बहनों तनुश्री और अलंकृता के साथ पहुंचे। मुलाकात के बाद अमनमण‍ि ने कहा, ”अपनी समस्या लेकर महाराज जी से म‍िलने आया था। मुलाकात हो गई है। उन्होंने अाश्वासन दिया है कि जल्द ही समस्या का समाधान होगा।” वहीं, ये पूछे जाने पर क‍ि वे अपनी बहनों के साथ मिलने क्यों आए, उन्होंने कहा, ”जब परिवार के मुखिया से कोई मिलने जाता है तो वह अपने परिवार के दूसरे मेंबर्स के साथ ही जाता है।” गोरखपुर से योगी महाराजगंज दौरे पर रवाना हो गए और यहां उन्होंने 90 दल‍ितों के साथ खाना खाया। इस दौरान यहां उन्होंने 11 अफसरों को काम में लापरवाही के चलते सस्पेंड भी कर द‍िया।

अफसरों के साथ योगी ने की माट‍िंग…

– महाराजगंज पहुंचे योगी आदित्यनाथ ने चेहरी आईटीएम कॉलेज में हेलिकॉप्टर से उतरने के बाद बीजेपी सांसद, विधायकों और पार्टी वर्कर्स के साथ मीट‍िंग की। मीट‍िंग में सीएम ने संगठन को मजबूत बनाने और सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने की बात कही।
– इसके बाद सीएम ने काॅलेज कैम्पस में ही पौधारोपण किया और कार से ड‍िस्ट्र‍िक्ट हेडक्वार्टर के ल‍िए रवाना हुए। ड‍िस्ट्र‍िक्ट हेडक्वार्टर पर सीएम योगी ने अफसरों के साथ एक र‍िव्यू मीट‍िंग की। इसमें उन्होंने सरकार की योजनाओं, लॉ एंड ऑर्डर और विकास की योजनाओं सहित नेपाल बॉर्डर से सटे इलाकों की सुरक्षा के बारे में जानकारी ली।
– इस दौरान उन्होंने लापरवाही बरतने के कारण नौतनवां एसडीएम को मुख्यालय से अटैच करने का आदेश द‍िया। उन्होंने दो थानेदारों एसओ पुरंदरपुर और एसओ फरेंदा के सस्पेंशन का भी न‍िर्देश द‍िया।
– यही नहीं, लंबे समय से गायब 4 डॉक्टरों पर भी जांच के आदेश द‍िए गए। सीएम ने कहा क‍ि जांच के बाद लापरवाही मिलने पर सैलरी रिकवरी भी हो।
– इस दौरान उन्होंने यूपी के पूर्व सीएम अख‍िलेश यादव पर कमेंट करते हुए क‍हा क‍ि जो व्यक्ति अपनी पार्टी को नहीं संभाल पा रहा है, वो बीजेपी के बारे में प्रश्न कर रहा है।
इन अफसरों को किया गया सस्पेंड
1.) विनोद कुमार राव, एसओ पुरंदरपुर
2.) चंद्रेश यादव, एसओ फरेंदा
3.) गिरीश चंद्र श्रीवास्तव, एसडीएम
4.) एसडीएम नौतनवां
5.) डॉ. शैलेष कुमार सिंह, कैजुअलटी मेडिकल ऑफिसर
6.) संजय श्रीवास्तव, बीडीओ
7.) रवि सिंह, एएओ बेसिक
8.) मो. मुजिम्म‍िल, जिला कृषि अधिकारी
9.) बीएन ओझा, एक्स इंजीनियर पीडब्ल्यूडी
10.) डॉ. अरशद कमाल
11.) डॉ. वाजपेयी
गोरखपुर में अमनमण‍ि को20 म‍िनट तक करना पड़ा इंतजार…
– इस दौरान लगभग 20 मिनट तक अमनमणि अपनी बहनों के साथ वीआईपी गेट पर रुके रहे। तनुश्री के हाथ में एक नीले रंग की फाइल भी लोगों के बीच चर्चा का व‍िषय रही।
– बता दें, यूपी व‍िधानसभा चुनाव में अमनमण‍ि को जीत द‍िलाने में तनुश्री और अलंकृता का अहम रोल माना जाता है। दोनों ने अमनमणि के ल‍िए काफी चुनाव प्रचार क‍िया था। ये वो वक्त था, जब अमनमणि पत्नी सारा हत्या के मामले में गाजियाबाद की डासना जेल में थे।
– तनुश्री (30) ने लंदन यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल रिलेशन्स में एमए किया है। अलंकृता (24) ने दिल्ली से फैशन डिजाइनिंग का कोर्स किया है।
योगी के सीएम बनने के बादअमनमणि ने कई बार की मुलाकात
– बता दें, ये पहला मौका नहीं है जब अमनम‍ण‍ि योगी से मुलाकात करने पहुंचे हों। इससे पहले 11 मार्च को यूपी व‍िधानसभा का र‍िजल्ट अनाउंस होने के बाद अमनमण‍ि अब तक योगी से 9 बार म‍िल चुके हैं।
– इसी साल अप्रैल महीने में अमनमणि सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने पहुंचे थे। उन्होंने ये भी कहा था क‍ि अगर महाराज जी का आशीर्वाद रहा तो जल्द ही बीजेपी ज्वाइन कर लूंगा।
– वहीं, सीएम बनने के बाद जब पहली बार योगी आदित्यनाथ 25 मार्च को गोरखपुर आए थे तो उनके वेलकम में अमनमणि और उनके पिता बाहुबली पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी के नाम के पोस्टर गोरखपुर की सड़कों पर नजर आए थे।
– यही नहीं, यूपी असेंबली इलेक्शन में 11 मार्च को हुई वोटों की काउंटिंग के दूसरे दिन अमनमणि अपनी बहन और सहयोगियों के साथ गोरखनाथ मंदिर पहुंचे थे। गुरु गोरक्षनाथ की पूजा अर्चना के पहले उन्होंने योगी आदित्यनाथ का पैर छूकर आशीर्वाद लिया था।
– इसके अलावा अब तक कई मौकों पर योगी से अमनमण‍ि ने मुलाकात की है।
अमनमण‍ि पर है पत्नी की हत्या का आरोप
– अमनमण‍ि मधुम‍िता हत्याकांड में सजा काट कर रहे पूर्व मंत्री अमरमण‍ि त्र‍िपाठी के बेटे हैं। अमनमण‍ि खुद भी अपनी पत्नी सारा स‍िंह की हत्या के आरोपी हैं और इस समय जमानत पर हैं।
– बता दें, गोरखपुर के रहने वाले अमनमणि ने अपने घरवालों की मर्जी के खिलाफ जुलाई 2013 में लखनऊ की रहने वाली सारा से आर्य समाज मंदिर में शादी की थी।
– सारा की मौत सिरसागंज में 9 जुलाई 2015 को हुई थी, जब वह अपने पति अमनमणि के साथ दोपहर में कार से लखनऊ से दिल्ली जा रही थीं। अमनमणि ने सारा के घर वालों को बताया था कि उसकी मौत सड़क हादसे में हुई है। लेकिन सारा की मां सीमा सिंह, बहन नीति और भाई सिद्धार्थ ने हत्या का आरोप लगाया था।
– इसके बाद पुलिस ने अमनमणि को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। हालांकि, अमनमणि को हत्‍या नहीं, बल्कि एक किडनैपिंग मामले में गिरफ्तार किया गया। वहीं, बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए सीमा सिंह ने काफी भागदौड़ की। मामले में हत्या का केस दर्ज हुआ।
– इसके बाद अक्टूबर 2015 में यूपी सरकार की सिफारिश पर सीबीआई ने मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू की। सीबीआई ने दो महीने में कई लोगों के बयान लिए। फोरेंसिक रिपोर्ट की पूरी स्टडी की। फिर जेल में बंद अमनमणि से पूछताछ की, लेकिन केस की जांच की रफ्तार धीमे हो गई।

Add Comment

Click here to post a comment




Trending