आगरा

‘झोलाछापों के खिलाफ करें कार्यवाही’

सच का उजाला नेटवर्क
आगरा। मुख्य सचिव उ.प्र. शासन, लखनऊ की अध्यक्षता में11 अगस्त को आयोजित बैठक की तैयारी हेतु आयुक्त के. राममोहन राव ने आयुक्त सभागार में मण्डलीय विकास कार्यो की समीक्षा की। बैठक में आयुक्त ने मण्डल के समस्त अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे विकास कार्यो में प्रगति को त्वरित गति देते हुए अपेक्षित उपलब्धि प्राप्त करना सुनिश्चित करें अन्यथा लापरवाह व कार्य में रूचि न लेने वाले अधिकारियों के विरूद्ध निलम्बन या बर्खास्तगी किए जाने की कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने मण्डल के ऐसे जिले जिनकी विकास कार्यो की प्रगति खराब है, को चेतावनी जारी करने के भी निर्देश दिए।
आयुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यो की प्रगति की समीक्षा के दौरान निर्देशित किया कि अपर निदेशक स्वास्थ्य व मण्डल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी जनपदों में भ्रमण कर अस्पतालों से अनुपस्थित चिकित्सकों के विरूद्ध कार्यवाही करें। उन्होंने मण्डल के मुख्य विकास अधिकारियों से भी अपेक्षा की वे सभी अपने जनपद के सीएमओ की बैठक कर उनके क्षेत्रीय भ्रमण व झोलाछाप डाक्टर के विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित करायें। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की एम्बुलेंस सेवा प्रभावित होने पर नाराजगी व्यक्त की तथा अपर निदेशक स्वास्थ्य को निर्देशित किया की शीघ्र एम्बुलेंस सेवा बहाल किए जाने हेतु अपेक्षित कार्यवाही सुनिश्चित करें। उन्होंने मण्डल में कार्यरत एडवांस लाईफ सेवा (एएलएस) एम्बुलेंस की स्थिति और उसमें की गयी व्यवस्थाओं की जांच करने हेतु मण्डल के मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया।
आयुक्त ने जिलाधिकारी मथुरा को निर्देशित किया कि वे वहां पर कार्यरत नेत्र सर्जन संजीव गुप्ता की जांच करा लें कि वे नेत्र आपरेशन में जानबूझकर रूचि नहीं लेते हैं अथवा उनमें नेत्र आपरेशन करने की क्षमता नहीं है। तत्पश्चात उनके विरूद्ध अपेक्षित कार्यवाही हेतु शासन को पत्र भेजें।
उन्होंने मण्डल के समस्त मुख्य चिकित्साधिकारियों को निर्देशित किया कि उनके यहां कौन-सी दवा उपलब्ध है और कौन-सी नहीं है, उनकी सूची 10 अगस्त तक उन्हें उपलब्ध करा दें।
आयुक्त ने जनपद आगरा में प्लास्टिक को प्रतिबन्धित करने के अभियान के अन्तर्गत काफी मात्रा में प्लास्टिक पकड़े जाने के कार्य की सराहना की तथा जनपद मथुरा में तालाब खुदाई व चकरोडों पर मिट्टी डालने के कार्य में अपेक्षित प्रगति न होने पर असंतोष व्यक्त किया। आयुक्त ने राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल योजना की प्रगति की समीक्षा के दौरान जनपद आगरा में पाली-किरावली योजना व जनपद फिरोजाबाद के फतेहपुर कटैना में मीठे जल का स्रोत अभी तक न प्राप्त होने के दृष्टिगत अन्य स्थानों पर स्रोत खोजने का कार्य 15 दिन में पूर्ण करने हेतु मुख्य अभियंता जल निगम को निर्देशित किया। उन्होंने रोजगार गारण्टी योजना के अन्तर्गत योजना में गांव के अधिक से अधिक लोगों को आच्छादित करने के भी निर्देश दिए।
बैठक में जिलाधिकारी आगरा गौरव दयाल, अपर आयुक्त प्रभात कुमार शर्मा, संयुक्त विकास आयुक्त प्रखर श्रीवास्तव, नगर आयुक्त आगरा अरूण प्रकाश, सीडीओ आगरा रविन्द्र कुमार मांदड़ व अन्य जनपदों के मुख्य विकास अधिकारी, जिला विकास अधिकारी सहित अन्य मण्डलीय अधिकारी उपस्थित थे।