राजनीती

मायावती का इस्तीफा ड्रामेबाजी: नसीमुद्दीन

सच का उजाला नेटवर्क
आगरा। राष्ट्रीय बहुजन मोर्चा के अध्यक्ष नसीमुद्दीन सिद्दीकी बीते रोज आगरा में फतेहाबाद रोड स्थित होटल पर्ल ब्लू में अपने मोर्चा के कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे। उन्होंने यहां पत्रकार वार्ता की। जिसमें उन्होंने मायावती पर बड़े हमले किए। नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा कि, ” मायावती का राज्यसभा से इस्तीफा देना ड्रामेबाजी है। ये इस्तीफा सतीश चंद्र मिश्र ने दिलवाया है। नसीमुद्दीन ने ये आरोप लगाए कि, बीएसपी हर विधानसभा के नेताओं से 22 लाख रुपए वसूल रही है। नसीमुद्दीन मंगलवार को आगरा में ‘राष्ट्रीय बहुजन गठबंधन’ की बैठक करने पहुंचे थे।
नसीमुद्दीन ने मायावती के राज्यसभा से इस्तीफा देने पर कहा- ”यह कदम सिर्फ ड्रामेबाजी है और कुछ नहीं। इसमें भी उनके हमदर्द सतीश चंद्र मिश्रा का हाथ है। इसलिए इस्तीफा दिला दिया कि मायावती के बाद सतीश चंद्र मिश्रा सदन में पार्टी के नेता बन जाएं।” ”सतीश चंद्र मिश्रा अभी राज्यसभा के नेता बने हैं, उनकी साजिश है कि वह खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष बन जाएं।”
”मायावती ने कहा कि राज्यसभा में दलितों की बात उठाई तो उन्हें बोलने नहीं दिया गया। अगर सचमुच बोलने नहीं दिया तो इस्तीफा नहीं, संघर्ष करना चाहिए था।” ”जब हरियाणा के फरीदाबाद में दलितों को आग लगा दी गई। बिजनौर में दलित मांरे गए तो इस्तीफा नहीं दिया। जब साल-दो साल बचे थे तो अब इस्तीफा दे दिया।” नसीमुद्दीन ने आगे कहा- ”बीएसपी को मुझसे ज्यादा हिन्दुस्तान में कोई नहीं जानता। कहां वसूली की जा रही है, कितनी वसूली हो रही है मैं सब जानता हूं। अभी भी हर विधानसभा से 22 लाख रुपए की वसूली चल रही है।” ”अंबेडकर और कांशीराम के मिशन को मायावती व सतीशचंद्र मिश्रा बेच रहे हैं। अपरकास्ट, मुस्लिमों और दलितों से अपील है कि इस मिशन को बचा सकते हो तो बचा लो।”
”उन्होंने कहा कि जिस मिशन में मैंने 34 साल लगाए। अपनी औलाद को कुर्बान कर दी। मुझे मालूम था कि बीएसपी डूबता जहाज है। ऊपर वाले ने ऐसा रास्ता बना दिया कि मुझे वहां से निकाल दिया।”

नसीमुद्दीन सिद्दीकी बोले-मुझे मालूम था कि बीएसपी डूबता जहाज है। ऊपर वाले ने ऐसा रास्ता बना दिया कि मुझे वहां से निकाल दिया।”

नसीमुद्दीन बना रहे ‘राष्ट्रीय बहुजन गठबंधन’
बता दें, नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने मायावती के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। नसीमुद्दीन सिद्दीकी मायावती के खिलाफ ‘राष्ट्रीय बहुजन गठबंधन’ बनाने की तैयारी में जुट गए हैं। इसमें दलित, मुसलमान और ओबीसी से जुड़े 16 संगठन एक साथ आ रहे हैं। इसी के तहत वो मंगलवार को आगरा आए। इससे पहले संगठन बनाने को लेकर एक बैठक भी हो चुकी है। यह बैठक रविवार (6 अगस्त) को दिल्ली में हुई थी। इसमें पूरा एजेंडा तय किया गया और मीटिंग में शामिल नेताओं को उनकी जिम्मेदारियों से अवगत कराया गया। सूत्रों के मुताबिक, इस मीटिंग में मायावती के वोट बैंक में सेंध लगाने पर भी चर्चा की गई। इस संगठन में मायावती से नाराज कई पूर्व बीएसपी नेता भी शामिल हो सकते हैं, जिन्हें संगठन में बड़ी जिम्मेदारियां देने की तैयारी है।

Add Comment

Click here to post a comment




Trending