क्राइम

मोबाइल गेम खेलने पर डांटा तो बेटे ने खुद को गोली मारी

श्रीनगर। शहर के सैनिक कॉलोनी इलाके में दिल दहला देने वाली घटना में एक बारहवीं कक्षा के छात्र ने पिता द्वारा मोबाइल पर गेम खेलने से मना करने पर खुद को गोली मारकर जान दे दी। छात्र ने घर पर पड़ी पिता की लाइसेंसी पिस्तौल से ही खुद को उड़ा दिया। छात्र की पहचान गौरव कौशल (16) पुत्र जगदेव सिंह निवासी सेक्टर ई, सैनिक कॉलोनी के रूप में हुई। घटना गुरुवार सुबह नौ बजे की है।
प्रॉपर्टी डीलर जगदेव सिंह के घर की छत से गोली चलने की आवाज आई। घर पर मौजूद सदस्य छत पर दौड़े। छत का दृश्य देखकर परिजनों के पांव तले जमीन खिसक गई। छत पर खून से सना उनके बेटे का शव पड़ा था और पास ही पिस्तौल, जिससे गोली चली थी। चीख-पुकार सुनकर आसपास के लोग वहां एकत्रित हो गए। घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची। गौरव को जीएमसी ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने पुलिस को बताया कि बुधवार रात जगदेव सिंह ने अपने बेटे गौरव को मोबाइल फोन के प्रयोग पर डांटा था। परिजनों के अनुसार, गौरव अक्सर मोबाइल फोन पर गेम खेला करता था और पढ़ाई की ओर ध्यान कम देता था। इस बात से उसके पिता खफा थे। गुरुवार सुबह पांच बजे जगदेव सिंह ने गौरव को उठाकर ट्यूशन पढ़ने के लिए भेजा था, जिससे वह और गुस्से में था। घर आकर गौरव ने पिता की लाइसेंसी पिस्तौल से घटना को अंजाम दे दिया। पुलिस ने शव का पंचनामा करवाकर परिजनों को सौंप दिया। ‘मेरे साथ ही जला देना मेरा मोबाइल फोन’: खुद को गोली मारने से पहले गौरव ने एक कागज पर अपनी अंतिम इच्छा लिखी, ‘मेरी चिता के साथ ही मेरा मोबाइल फोन जला दिया जाए’।
परिजनों ने जब गौरव के हाथ का लिखा हुआ पत्र पढ़ा तो उनकी आंखों से आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे।

About the author

amit tomer

Add Comment

Click here to post a comment




Trending