हेल्थ

स्तनपान से कम होता है मां को हार्टअटैक होने का रिस्क

लंदन। एक नई रिसर्च में सामने आया है कि स्तनपान कराने वाली माताओं को बाद के जीवन में हार्टअटैक या स्ट्रोक पड़ने का खतरा कम हो जाता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के जोर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में दर्शाया गया है कि जो महिलाएं अपने बच्चों को स्तनपान कराती हैं उन्हें दिल की बीमारी, हार्टअटैक या स्ट्रोक का खतरा दस फीसदी कम हो जाता है।
आॅक्सफोर्ड यूनीवर्सिटी की एक रिसर्च फैलो सैन पीटर्स बताती है कि ब्रेस्टफीडिंग कराने से मां के मेटाबोलिज्म यानी उपापचय में तेजी से सुधार होता है। गर्भावस्था के दौरान महिला के उपापचय में बहुत तेजी से बदलाव आता है और महिलाओं पर मोटापा चढ़ जाता है जो गर्भस्थ बच्चे को तीव्र बढ़वार के लिए जरूरी ऊर्जा प्रदान करने के लिए जरूरी भी है। स्तनपान से वह मोटापा तेजी से और पूरी तरह समाप्त हो सकता है।
इससे पहले स्तनपान को लेकर हुईं रिसर्च में महिलाओं को इसका अल्पकालीन लाभ मिलने की बात कही गई थी जिनमें गर्भावस्था के बाद वजन कम होना, कोलेस्ट्रॉल में कमी, ब्लडप्रेशर और ग्लूकोज का स्तर घटना आदि शामिल है। अब इस नई शोध में सामने आया है कि स्तनपान बच्चे के लिए जरूरी है तो स्तनपान कराना भी मां के लिए उतना ही जरूरी है।




Trending