Uncategorized हेल्थ

नपुसंकता नहीं है इरेक्टाइल डिस्फंक्शन

आयुषमान खुराना और भूमि पेडनेकर की आगामी फिल्म ‘शुभ मंगल सावधान’ का ट्रेलर हाल ही में लांच हुआ। फिल्म की कहानी इरेक्टाइल डिस्फंक्शन यानी स्तंभन दोष जैसे विषय पर है जिस पर भारतीय समाज में लोग खुलकर चर्चा करने से बचते हैं। फिल्म एक ऐसे जोड़े की कहानी पर आधारित है जो इस तरह की यौन समस्या से ग्रसित है। फिल्म का ट्रेलर बेहर रोचक है और खास बात यह है कि कुछ मिनट का यह ट्रेलर भारतीय समाज में स्तंभन दोष को लेकर जो भ्रांतियां हैं, उसे उजागर करने में कामयाब रहा है। नायक उत्तेजना की स्थिति में भी खुद को यौन क्रिया के लिए तैयार नहीं कर पाता है। भारतीय समाज में स्तंभन दोष को अक्सर नपुंसकता मान लिया जाता है जबकि ऐसा नहीं है। स्तंभन दोष कई कारणों से हो सकता है जैसे डायबिटीज, ह्रदयवाहिनी संबंधी बीमारी, दवा और हार्मोन असंतुलन के प्रभाव आदि से भी हो सकता हबै। ऐसी स्थिति पुरुष के केवल यौन प्रदर्शन को ही प्रभावित नहीं करती बल्कि उसका आत्मविश्वास भी तोड़कर रख देती है। फिलहाल फिल्म की पूरी कहानी तो पर्दे पर देखने पर ही पता चलेगी लेकिन इसी बहाने हम स्तंभन दोष को लेकर कुछ भ्रांतियों को साफ कर देते हैः-

1 यह आनुवांशिक हो सकता है

स्तंभन दोष आनुवांशिक हो सता है। आनुवाशिंकी शोधकर्ता जींस और स्तंभन दोष के बीच संबंध पर अध्ययन कर रहे हैं। वे इसके उपचार के तौर पर जीन थैरेपी की संभावनाएं भी तलाश रहे हैं। यह शोध अभी शुरुआती स्तर पर ही है।

  1. स्तंभन दोष और मुखीय (ओरल) स्वच्छता के बीच संबंध है

आप शायद नहीं जानते हों लेकिन आपके मसूड़ों औऱ दातों का सीधा संबंध स्तंभन दोष से होता है। अध्ययनों के मुताबिक, मसूड़ों की बीमारी वाले व्यक्तियों में स्तंभन दोष की संभावना अच्छे दातों व मसूड़ों वाले व्यक्ति के मुकाबले अधिक होती है। शोधकर्ता मानते हैं कि मसूड़ों की बीमारी पैदा करने वाले जीवाणु रक्त वाहिकाओं को भी क्षति पहुंचाते हैं जिससे रक्त प्रवाह बाधित हो जाता है।

  1. स्तंभन दोष अन्य चिकित्सकीय स्थितियों का संकेत हो सकता है

स्तंभन दोष कोई बीमारी नहीं है और यह अक्सर अन्य स्वास्थ्य संबंधी खतरों जैसे ह्रदय रोग और उच्च रक्तचाप आदि का चेतावनी संकेत होता है। यदि आप स्तंभन दोष से पीड़ित हैं  तो इसका कारण पता करने और उपचार के लिए यथाशीघ्र अपने डाक्टर से परामर्श करें।

  1. कुछ दवाओं की वजह से भी हो सकता है स्तंभन दोष

कुछ औषधियां या दवाएं भी स्तंभन दोष पैदा कर सकती हैं। एंटीहिस्टेमाइन्स (हिस्टामिनरोधी), एंटीडिप्रेशेंट (अवसादरोधी) और मूत्रवर्धक औषधियां जैसी कुछ दवाएं हैं जिनका असर स्तंभन दोष के रूप में देखा गया है।

  1. अत्यधिक हस्तमैथुन और स्तंभन दोष के बीच कोई संबंध नहीं है

यह भ्रांति रही है कि हस्तमैथुन करने से स्तंभन दोष होता है, जबकि इनके बीच कोई संबंध नहीं होता। हालांकि कई बार पोर्न देखकर निरंतर हस्तमैथुन करने के मनोवैज्ञानिक प्रभाव के कारण पुरुष अपने रीयल लाइफ पार्टनर के साथ संबंध में स्तंभन को विकसित करने और बनाए रखने की क्षमता खो देता है।

About the author

Som Sahu

Add Comment

Click here to post a comment




Trending